Sunday, Jan 20, 2019

हेलीकाप्टर और ड्रोन से होगी कांवरियों की निगरानी

सावन में कांवड़ यात्रा को लेकर सुरक्षा के सख्त इंतजाम किये गये हैं। इलाहाबाद से काशी के बीच के मार्गों पर कांवरियों की निगरानी ड्रोन और हेलीकाप्टर होगी। उनकी सुरक्षा और इंतजामों के लिए पुलिस प्रशासन सजग रहेगा। इस दौरान अतिरिक्त फोर्स की भी तैनाती की जायेगी। सोमवार को बनारस पहुंचे डीजीपी सुलखान सिंह और प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने सावन मेले के मद्देनजर व्यवस्थाओं की पड़ताल की। विश्वनाथ मंदिर और कांवड़ रूट का निरीक्षण कर अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश दिए। डीजीपी सुलखान सिंह और प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने कमिश्नरी सभागार में सुबह मंडल के अधिकारियों के साथ बैठक की। प्रमुख सचिव ने बताया कि कांवरियों के रूट की निगरानी हेलीकॉप्टर और ड्रोन कैमरे से होगी। घाटों पर भी हाई क्वॉलिटी ड्रोन कैमरों से नजर रखी जायेगी। अरविंद कुमार ने कहा कि सावन को देखते हुए बनारस में जल्द ही एनडीआरएफ, सीआरपीएफ और पीएससी की अतिरिक्त फोर्स तैनात की जायेगी। डीजीपी सुलखान सिंह ने कहा कि सावन मेले के दौरान कांवरियों को सुरक्षित यात्रा कराने के साथ सुचारू यातायात के लिए पुलिस को निर्देश दिया गया है। इसमें स्वयंसेवी संस्थाओं की भी मदद ली जाएगी। घाटों और मंदिरों पर कोई दुर्घटना न हो, इसके लिए सुरक्षा की पूरी व्यवस्था की गई है। डीजीपी के अनुसार संवेदनशील जगहों पर चेकिंग अभियान चलाया जाएगा। आवश्यक इंतजाम के लिए कंवरिया समितियों से संपर्क किया जा रहा है। रेलवे और रोडवेज अधिकारियों से समन्वय प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने बताया कि रेलवे और परिवहन निगम के अधिकारियों से बातचीत हुई है। उनसे आग्रह किया गया है कि बनारस, इलाहाबाद और लखनऊ समेत प्रमुख रेल स्टेशनों पर गाड़ियों के प्लेटफार्म बदलने की तत्काल सूचना एनाउंस न करें। इससे भगदड़ की संभावना बनती है। वहीं रोडवेज के अफसरों से कहा गया है कि वे अपने बस ड्राइवरों को कांवरियों के साथ सही व्यवहार और रास्ते में सावधानी बरतने के निर्देश दें। कांवड़ रूट पर होगी 24 घंटे विद्युत आपूर्ति प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने बताया कि कांवरियों के रूट पर 24 घंटे विद्युत आपूर्ति का निर्देश दिया गया है। सड़कों मरम्मत और पेयजल सुविधा मुहैया कराने के लिए संबंधित विभागों को कहा गया है। डीएम को भी निर्देशित किया गया है कि कांवरियों के रूट पर दवा-इलाज की समुचित व्यवस्था हो, ताकि आपात स्थिति से निपटा जा सके।

Add new comment

Image CAPTCHA